Inspirational Speeches of Rajiv Dixit

(Read More About Shri Rajiv Dixit)

Late Shri Rajiv Dixit has not stopped amazing me. Neither his sudden departure from among us.  I was inspired during my childhood days by his speeches on Swadeshi. I present here some collection of his speeches on varied social issues. The speeches are in Hindi.

भारत के सामाजिक एवं चारित्रिक पतन का षड़यंत्र  (Download)

संगठन की मर्यादा एवं सिद्धांत (Download)

भारत का स्वर्णिम अतीत (Download)

भारत की विश्व को देन (Download)

ऐतिहासिक  भूलें (Download)

गुलामी की निशानियाँ (Download)

मांसाहार से हानियाँ (Download)

स्वदेशी से स्वावलंबी भारत (Download)

अंग्रेजी भाषा की गुलामी (Download)

भारत का सांस्कृतिक पतन (Download)

विषमुक्त कृषि (Download)

संस्कृत भाषा की वैज्ञानिकता (Download)

अंतर्राष्ट्रीय संधियों के मकडजाल में भारत (Download)

व्यवस्था परिवर्तन की क्रांति (Download)

मौत का व्यापार (Download)

27 comments on “Inspirational Speeches of Rajiv Dixit

  1. I was very inspired when i was listening “jan-gan-man….” speech of Ma.R.Dixit and I would like listen to all speech.”shat shat pranam to this Hero”.

  2. Thanks vijay. I am very inspired from RAJIV BAI. RAJIV BHAI real hero of India. My God is RAJIV BHAI. I listen 23 speeches of RAJIV BHAI. Tell me other speeches of rajiv bhai, And help me to download RAJIV BHAI speeches. Thank you, very very very much.

  3. Dhanyawad ! Hi mahiti dilyabaddal mi tuza abhari ahe. Hi mahiti jastit jast lokanparyant pohachavanyacha mi prayatna karel. Again Thanks Very very Much !!!

  4. Rajivji Ki Vagbhatji ke bare me jo tipniya hai vo Aane wale pidhi ko swastha rakhane ko kaphi hai.Unki ye jo den hai vo sabse upar hai.

    Hamri unko yahi shradhanjali ho sakti hai ke hum unke Vichar Janmanas tak pahuchaye

  5. hi Vijay

    i am from south india and i dont know hindi .. but i heard many good things about rajiv dixit … is it possible to hear his speech in english or is their a translated version of his speech ? if any please upload it thanks

  6. he is a real hero
    what happens if he is not with us now
    unke vichar ab bhi hamare saat hai
    let us gather and do something for the welfare of our country
    don’t only listen his speeches do some action
    THIS WILL BE THE REAL SHRADHANJALI FOR MR.RAJEEV DIXIT!

    • itna agar krte ho apne desh se prem aur rajiv bhai k sapne ko, pura krna chahte ho to sath do mera…….cal karo 8225801673

  7. Rajiv jee
    amar rahenge agar hum sab unke bataye path par chalenge aur aneko ko iska anusaran karne ki prerna denge aur purn swadesi ko apnayenge aur sabhi videsi samano ka kharidna band karenge.
    Jai rajiv jee.

  8. वह खून कहो किस मतलब का जिसमे उबाल का नाम नहीं,
    वह खून कहो किस मतलब का आ सके देश के कामनहीं.
    वह खून कहो किस मतलब का जिसमे जीवन ना रवानी हैं,
    जो परवश होकर बहता हैं वह खून नहीं हैं पानी हैं.
    उस दिन दुनिया ने सही सही खून की कीमत पहचानी थी,
    जिस दिन सुभाष ने बर्मा में मांगी उनसेकुर्बानी थी.
    बोले स्वतंत्रता की खातिर बलिदान तुम्हे करना होगा,
    तुम बहुत जी चुके हो जग में लेकिन आगे मरना होगा.
    आज़ादी के चरणों में जो जयमाल चढ़ाई जायेगी,
    वह सुनो तुम्हारे शीशों के फूलों से गूँथी जायेगी.
    आज़ादी का संग्राम कही पैसे पर खेला जाता हैं ,
    यह शीश काटने का सौदा नंगे सर झेला जाता हैं.
    आज़ादी का इतिहास कही काली स्याही लिख पाती हैं ?
    इसको लिखने के लिए खून की नदी बहाई जाती हैं.
    यह कहते कहते वक्ता की आँखों में लहू उतर आया,
    मुख रक्त वर्ण हो दमक उठा दमकी उनकी रक्तिम काया.
    आजानुबाहू ऊँची करके वो बोले ” रक्त मुझे देना “
    इसके बदले में भारत की आज़ादी तुम मुझसे लेना.
    हो गयी सभा में उथल-पुथल सीने में दिल ना समाते थे,
    स्वर इन्कलाब के नारों के कोसों तक छाये जाते थे.
    हम देंगे-देंगे खून शब्द बस यही सुनाई देते थे,
    रण में जाने को युवक खड़े तैयार दिखाई देते थे.
    बोले सुभाष ऐसे नहीं बातों से मतलब सरता हैं,
    लो यह कागज़ हैं कौन यहाँ आकर हस्ताक्षर करता हैं.
    इसको भरने वाले जन को सर्वस्व समर्पण करना हैं,
    अपना तन-मन -धन जीवन माता को अर्पण करना हैं.
    पर यह साधारण पत्र नहीं आज़ादी का परवाना हैं,
    इसपर तुमको अपने तन का कुछ उज्ज्वल रक्त गिराना हैं.
    वह आगे आये जिसके तन में भारतीय खून बहता हो,
    वह आगे आये जो अपने को हिंदुस्तानी कहता हो.
    वह आगे आये जो इसपर खूनी हस्ताक्षर देता हो ,
    मैं कफ़न बढ़ाता हूँ आये, जो हसकर इसको लेता हो.
    सारी जनता हुंकार उठी हम आते हैं हम आते हैं,
    माता के चरणों में यह लो हम अपना रक्त चढाते हैं.
    साहस से बढे युवक उस दिन,देखा बढ़ते ही आते थे,
    चाक़ू-छुरी कटियारों से वो अपना रक्त गिराते थे.
    फिर उसी रक्त स्याही में वो अपनी कलम डुबातेथे,
    आज़ादी के परवाने पर वो हस्ताक्षर करते जाते थे.
    उस दिन तारों ने देखा हिंदुस्तानी इतिहास नया,
    जब लिखा महा रणवीरों ने खून से अपना इतिहास नया.
    Vandai matram

  9. Here’s the link to A-Z Lectures of the Gandhi of 21st Century, RAJIV DIXIT — sdrv.ms/SvnoxH

    Refer it to anyone who is curious to know about Rajiv Dixit’s reforms.

    This is an independent platform which gets updated whenever a new lecture comes on internet.

  10. agar hum sabhi rajiv bhai ke bataye marg per chalne lage to bharat ko mahashakti banne se koi nahi rok sakta apne jivan me jadase jada swadeshi vastuo ka upyog karo and shakahari bano…….. Bhai rajiv amar rahe

  11. sir . this is reyan ali . i hear’s ur speech . i m persuing in b.com final year . i do reserch on politic’s from two year’s . i inspired from you . i got lot of details inside of politic’s . . i ll send you that plz throw light on it

  12. I was very inspired on listening ‘bharat bachao andolang’ speech of real hero of india Mr. RAJIV DIXIT.I solute to Mr. Rajiv Dixit like heros from my bottom of my heart. I proud to be an INDIAN…….

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s